Mon. May 20th, 2024

BJP Candidates List 2024: Ex Army Chief वीके सिंह साइलेंट मोड पर, Ex Air Force Chief अलर्ट मोड पर, जाने क्यों कटा वरुण गांधी का टिकट

By samacharpatti.com Mar 25, 2024
Gen VK Singh

Raghunath Singh [BJP Candidates List 2024:] भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने रविवार (24 मार्च) को अपनी 5वीं लिस्ट जारी कर दी। इस सूची में उत्तर प्रदेश की 13 सीटों सहित कुल 111 नामों की घोषणा की है। भाजपा ने चौकाते हुए कई अपने मौजूदा सांसदों को टिकट काट नए चहरों को चुनावी रण में उतार दिया। इसी क्रम में पार्टी ने अपने मौजूदा सांसद जनरल वीके सिंह General (retd) VK Singh की टिकट काट कार उन्हें साइलेंट मोड पर कर दिया है, तो वहीं पूर्व वायुसेनाध्यक्ष एसकेएस भदौरिया को पार्टी की सदस्यता दिलाकर उन्हें अलर्ट मोड पर रखा है।

Ex Air Force Chief एसकेएस भदौरिया अलर्ट मोड पर

BJP candidates List 2024: भाजपा ने अपने दिग्गज नेता और मौजूदा दो बार से गाजियाबाद से सांसद पूर्व थल सेनाध्यक्ष जनरल वीके सिंह को गाजियाबाद से लोकसभा का टिकट काट दिया है। पार्टी ने उनकी जगह अतुल गर्ग को प्रत्याशी बनाया है।
अतुल गर्ग वर्तमान में गाजियाबाद विधानसभा से विधायक हैं। इससे पहले 2017 में वह योगी सरकार में राज्यमंत्री थे। इस बार उन्हें योगी सरकार में कोई पद नहीं दिया गया है।
वहीं, दूसरी और 24 मार्च 2024 को नया घटनाक्रम देखने को मिला, एक तरफ जहां पूर्व सेनाध्यक्ष वीके सिंह को टिकट न देकर उन्हें पार्टी ने साइलेंट मोड पर कर दिया है, वहीं पूर्व वायुसेनाध्यक्ष एसकेएस भदौरिया को पार्टी की सदस्यता दिलाकर उन्हें अलर्ट मोड पर रखा है।
भदौरिया आगरा जिले के रहने वाले है। अब ऐसे कायास लगाए जा रहें हैं कि पार्टी उन्हें ब्रज की किसी सीट से उम्मीदवार बना सकती है।

वरुण गांधी पार्टी को पार्टी के खिलाफ बयानबाजी पड़ी भारी

भाजपा सांसद मेनका गांधी के पुत्र वरुण गांधी जोकि वर्तमान में भाजपा से लोकसभा के सदस्य भी थे, पार्टी ने उनका पीलीभीत से टिकट काट दिया है। उनकी जगह पार्टी ने जितिन प्रसाद को चुनावी मैदान में उतार दिया।
भाजपा ने वरुण गांधी का टिकट काट कर दिखा दिया कि भले ही आपके नाम में ‘गांधी सर नेम’ हो आप पार्टी से बड़े नहीं हैं। वरुण अपनी असंयमित वाणी के कारण टिकट से बंचित रह गए।
अक्सर वे पार्टी लाइन से हटकर बयानबाजी करते रहे, जिससे पार्टी नेतृत्व उनको लेकर सहज नहीं था। भाजपा ने उनको टिकट न देकर यह संदेश दे दिया है कि आप यदि वाणी पर संयम नहीं रख सकते, तो आप किनारे कर दिए जाएंगे।
अब वरुण ऐसे राजनैतिक चौराहे के किनारे खडे़ हैं, जहां से रास्ते तो दिल्ली तक जाते हैं, लेकिन बिना सहारे वहां तक पहुंचने की उम्मीद कम हैं। पार्टी ने उनकी मां मेनका गांधी की टिकट की घोषणा कर दी है।
मेनका ने पार्टी लाइन की लक्ष्मण रेखा नहीं लांघी, उन्होंने अपनी वाणी पर संयम रखा। पार्टी ने भी उनका मान रखते हुए पुनः लोकसभा का प्रत्याशी बना दिया।

पीलीभीत सीट पर 35 साल बाद गांधी परिवार के चुनावी सफर पर विराम

पीलीभीत लोकसभा सीट 35 सालों से गांधी परिवार के ही पास रही है। इस सीट पर वर्ष 1989 से ही मेनका गांधी या वरुण गांधी चुनाव लड़ते रहे हैं। मां-बेटा दोनों ही चुनाव जीतते रहे हैं।
मेनका गांधी ने वर्ष 1989 पहली बार चुनाव लड़ा था। उस दौर में उन्होंने एक लाख 31 हजार के अंतर से चुनाव में जीत दर्ज की थी। इसके बाद हर चुनाव में गांधी परिवार के सदस्य ने ही यहां से चुनाव लड़ा।
इस सीट पर मेनका गांधी ने वर्ष 2004 तक चुनाव लड़ा और जीतकर लोकसभा पहुंचती रहीं। उन्होंने वर्ष 2009 में अपने पुत्र वरुण गांधी गांधी के लिए यह सीट खाली कर दी। वरुण गांधी ने भी वर्ष 2009 में इस सीट पर जीत दर्ज की और लोकसभा पहुंचे।

पीलीभीत सीट पर हर बार बदला उम्मीदवार

वरुण गांधी ने वर्ष 2009 में इस सीट पर करीब दो लाख 80 हजार वोटों के अंतर से चुनाव जीता था। इसके बाद वर्ष 2014 में भाजपा ने पुनः पीलीभीत से मेनका गांधी को प्रत्याशी बनाया था।
उन्होंने यहां से करीब 3 लाख वोटों के बड़े अंतर से लोकसभा चुनाव जीता था। इसके बाद भाजपा ने पुनः प्रत्याशी बदला और पीलीभीत से मेनका गांधी की जगह वरुण गांधी को टिकट दिया था।
इसके बाद भाजपा ने वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में वरुण गांधी को टिकट दिया और उन्होंने दो लाख 55 हजार के अंतर से चुनाव जीता था। इसके बाद वरुण गांधी धीरे-धीरे अपनी वाणी पर संयम खोने लगे।
उनके सुर बदलने लगे। वरुण अपनी पार्टी को ही कटधरे में खड़ा करने लगे। अपनी सरकार की तमाम योजनाओं, कार्यों और नीतियों पर ही सवाल खड़ा करने लगे। इसके बाद कायास लगाए जा रह थे कि भाजपा अब उन्हें किनारे कर देगी।
भाजपा की 5वीं लिस्ट ने इन कायासों पर विराम लगा दिया और बयानबाजी के चलते उन्हें पार्टी ने टिकट नहीं दिया।
भाजपा ने पीलीभीत सीट पर योगी आदित्यनाथ सराकर में मंत्री जितिन प्रसाद को टिकट दिया है।
वर्ष 1989 के बाद पहली वार इस लोकसभा सीट पर गांधी परिवार का कोई सदस्य इस पर चुनाव नहीं लड़ेगा।

भाजपा ने मेरठ और मंडी से उतारे Bollywood के कलाकार

BJP candidates List 2024: BJP की पांचवी सूची में दो नाम चौकाने वाले हैं। पार्टी ने दुनिया में लोकप्रिय सीरियल रामायण के राम अरुण गोविल को पश्चिमी उत्तर प्रदेश की सीट मेरठ से प्रत्याशी बनाया है।
उन्हें तीन बार के मौजूदा सांसद राजेंद्र अग्रवाल की जगह टिकट दी गई है। अरुण गोविल भी अग्रवाल जाति से हैं।
एक तरफ जहां यूपी में राम मंदिर बनकर तैयार है, तो भाजपा ने रामायण सीरियल के ‘राम’ को क्रांति की धरा मेरठ से चुनावी रण में उतार कर साफ संदेश दे दिया है कि पश्चिम से पूर्व की ओर राम की लहर चलती रहे।
अरुण गोविल की लोकप्रियता रामानंद सागर के 90 के दशक में आए विश्व प्रसिद्ध सीरियल में रामायण से मिली।
समय-समय पर भगवान राम के किरदार के रूप में अनेक कलाकार आए, उन्हें उस तरह की लोकप्रियता नहीं मिली जैसी रामायण के राम अरुण गोविल को मिली। लोग अरुण गोविल को आज भी राम के तौर पर देखते हैं।

भाजपा ने चौकाते हुए हिमाचल प्रदेश की मंडी लोकसभा सीट से सिने तारिका कंगना रनौत को पार्टी का प्रत्याशी बनाया है। कंगना अपने बेबाक अंदाज से अपनी बात उठाती हैं।

फिल्म इंडस्ट्री में भाई-भतीजेवाद से लेकर आर्टीकल 370 और राममंदिर जैसे विषयों पर उन्होंने सराकर के पक्ष को सराहा।
वे सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं, जहां उनकी बड़ी फेन फोलोविंग है। पार्टी ने उन्हें मंडी लोक सभा सीट से उम्मीदवार बनाया है।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *