Thu. Jun 20th, 2024

Kangana Ranaut and Chirag Paswan: लोकसभा चुनाव जीतने से 13 साल पहले इस फिल्म में चिराग पासवान को हुआ था कंगना रनौत से प्यार

Image Source: Wikipedia

Kangana Ranaut and Chirag Paswan: चिराग पासवान ने 13 साल पहले बॉलीवुड में डेब्यू किया था। उन्होंने कंगना रनौत के साथ एक फिल्म में काम किया था।  अब लोकसभा चुनाव 2024 में प्रमुख विजेता के रूप में उभरे हैं। चिराग पासवान, लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) का प्रतिनिधित्व करते हैं ) चिराग पासवान ने हाजीपुर में 53.3 फीसदी वोट के साथ 6,15,718 वोट हासिल कर जीत दर्ज की। इस बीच, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ राजनीतिक शुरुआत करने वाली बॉलीबुड क्वीन कंगना रनौत ने 5,37,022 वोट हासिल करके हिमाचल प्रदेश की मंडी लोकसभा से जीत हासिल की।

बॉलीवुड To राजनीतिक

दोनों की जीत न केवल उनकी चुनावी सफलता के लिए बल्कि फिल्म उद्योग में उनके साझा अतीत के लिए भी उल्लेखनीय है। वर्ष 2011 में, चिराग पासवान ने फिल्म मिले ना मिले हम से अपने अभिनय की शुरुआत की, जिसमें कंगना रनौत ने मुख्य भूमिका निभाई। तनवीर खान द्वारा निर्देशित इस फिल्म में पंजाबी अभिनेत्री नीरू बाजवा और ‘चक दे ​​इंडिया’ स्टार सागरिका घाटगे भी थीं। कहानी चिराग के इर्द-गिर्द घूमती है, जो एक महत्वाकांक्षी टेनिस खिलाड़ी है जो शादी के पक्ष में अपने खेल के सपनों को छोड़ने के पारिवारिक दबाव के खिलाफ संघर्ष कर रहा है। अपने दिलचस्प आधार के बावजूद, फिल्म बॉक्स ऑफिस पर अच्छा प्रदर्शन करने में विफल रही।

अपनी साझा सिनेमाई यात्रा पर विचार करते हुए, चिराग ने एक बार एक टेलीविजन कार्यक्रम के दौरान टिप्पणी की थी, “लोगों ने हमें बड़े पर्दे पर एक साथ पसंद नहीं किया होगा, लेकिन जल्द ही हम संसद में एक साथ दिखाई देंगे।” यह भविष्यवाणी कथन अब सच हो गया है।

चिराग पासवान: बॉलीवुड से राजनीति तक का सफर

चिराग पासवान की राजनीतिक यात्रा उनके परिवार की विरासत में गहराई से निहित है। एक प्रमुख दलित नेता और लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) के संस्थापक दिवंगत राम विलास पासवान के बेटे के रूप में, चिराग को एक महत्वपूर्ण राजनीतिक विरासत विरासत में मिली। हाजीपुर में उनकी जीत, जिस निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कभी उनके पिता करते थे, न केवल एक व्यक्तिगत जीत बल्कि उनके परिवार की राजनीतिक विरासत की निरंतरता का प्रतीक है। इस साल, लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) ने बिहार में 5 निर्वाचन क्षेत्रों में जीत हासिल की, जो इस क्षेत्र में पार्टी के प्रभाव को रेखांकित क

फिल्म “मिले ना मिले हम” बॉक्स ऑफिस पर ज्यादा चल नहीं पाई थी। चिराग पासवान ने अपने पिता की राजनीतिक विरासत न केवल ठीक संभाला, बल्कि 5 उनकी पार्टी ने पांच सीटें जीत कर अपना परचम लहरा दिया है।

कंगना रनौत: सिल्वर स्क्रीन से राजनीतिक क्षेत्र में मंडी से एंट्री

कंगना रनौत का राजनीति में एंट्री कई लोगों के लिए आश्चर्य की बात थी। बॉलीवुड में अपनी उग्र स्वतंत्रता और स्पष्टवादी स्वभाव के लिए जानी जाने वाली वह अपने राजनीतिक अभियान में भी वही दृढ़ता लेकर आईं। हिमाचल प्रदेश के मंडी लोक सभा में भाजपा का प्रतिनिधित्व करते हुए, कंगना की जीत को मतदाताओं के साथ उनके संबंध और राजनीतिक लाभ के लिए अपनी सेलिब्रिटी स्थिति का लाभ उठाने की उनकी क्षमता के प्रमाण के रूप में देखा गया।

अपने अभियान के दौरान, कंगना ने बुनियादी ढांचे के विकास, महिला सशक्तिकरण और पर्यटन को बढ़ावा देने सहित स्थानीय मुद्दों पर ध्यान केंद्रित किया। कांग्रेस के दिग्गज नेता विक्रमादित्य सिंह पर उनकी जीत ने मतदाताओं के साथ जुड़ने की उनकी क्षमता और अपने निर्वाचन क्षेत्र में बदलाव लाने की उनकी प्रतिबद्धता को उजागर किया।

भविष्य की संभावनाएँ: आगे क्या है

संसद के नवनिर्वाचित सदस्यों के रूप में, चिराग पासवान और कंगना रनौत दोनों को अपनी चुनावी सफलता को प्रभावी शासन में बदलने की चुनौती का सामना करना पड़ रहा है। उनकी विविध पृष्ठभूमियाँ – अपनी गहरी जड़ें जमा चुकी राजनीतिक विरासत के साथ चिराग और अपने बाहरी दृष्टिकोण के साथ कंगना – अनुभव और नवीनता का एक अनूठा मिश्रण पेश करती हैं।

चिराग का ध्यान अपने पिता की विरासत को जारी रखने, सामाजिक न्याय की वकालत करने और बिहार के विकास पर जोर देने पर रहने की संभावना है। उनकी पार्टी की हालिया जीत इन प्राथमिकताओं के लिए एक मजबूत जनादेश का संकेत देती है। इस बीच, राजनीतिक क्षेत्र में कंगना के प्रवेश से विशेष रूप से महिलाओं के अधिकारों, सांस्कृतिक विरासत और स्थानीय विकास से संबंधित मुद्दों पर एक नया दृष्टिकोण आने की उम्मीद है।

वर्ष 2024 के लोकसभा चुनाव में चिराग पासवान और कंगना रनौत की सफलता भारतीय राजनीति में व्यापक रुझान को दर्शाती है। उनकी जीत सेलिब्रिटी कल्चर और राजनीतिक शक्ति के बढ़ते अंतर्संबंध को रेखांकित करती है। महत्वपूर्ण अनुयायियों के साथ सार्वजनिक हस्तियों के रूप में, समर्थन जुटाने और जनता की राय को प्रभावित करने की उनकी क्षमता पर्याप्त है।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *