Sun. May 19th, 2024

Kangana Ranaut Vs Vikramaditya: कैसा होगा कंगना रनौत और विक्रमादित्य में मुकाबला, आइए जाने

Kangana Ranaut mandi lok sabha seatKangana Ranaut mandi lok sabha seat

Kangana Ranaut Vs Vikramaditya: एक्ट्रेस कंगना रनौत अपने बेवाक बयानों के लिए जानी जाती है। जब से भारतीय जनता पार्टी ने उन्हें हिमाचल प्रदेश की मंडी (Mandi) लोक सभा से उम्मीदवार बनाया है, तब वह अधिक सुर्खियों बनी हुयी हैं। बेहद उपेक्षित नजर आने वाली इस लोक सभा सीट इस समय राजनैतिक चर्चा के केंद्र में है।

इस समय हिमाचल प्रदेश की राजनीति में उथल-पुथल मची हुई है। अपने राजनैतिक बुरे दौर से गुजर रही कांग्रेस संकटग्रस्त और हतोत्साहित है। हाल ही में राज्य सभा चुनाव में उसके उम्मीदवार अभिषेक मनु सिंधवी को हार का सामना करना पड़ा था। कांग्रेस ने कंगना रनौत के खिलाफ विक्रमादित्य सिंह को उम्मीदवार बनाया है. विक्रमादित्य सिंह दिवंगत वीरभद्र सिंह के बेटे हैं।

Kangana Ranaut Vs Vikramaditya: कंगना की उम्मीदवारी की घोषणा से पहले हिमाचल प्रदेश कांग्रेस में काफी विवाद हुआ था. मंडी से मौजूदा सांसद प्रतिभा सिंह ने घोषणा की कि वह 2024 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगी। उन्होंने कहा कि राज्य में कांग्रेस के लिए माहौल अनुकूल नहीं है। मंडी लोक सभा में कार्यकर्ताओं में कांग्रेस को जिताने का भरोसा नहीं है।

लेकिन, भाजपा ने जैसे ही कंगना रनौत की उम्मीदवारी की घोषणा की प्रतिभा सिंह के सुर बदल गए। आखिरकार कांग्रेस ने उनके बेटे को यहां से टिकट दिया, जिसके बाद अब सभी का ध्यान इस मंडी लोक सभा पर हैं

कांगना के चुनाव मैदान में आते ही कांग्रेस के सुर बदल गए। कांगेस पार्टी की नेता सुप्रिया श्रीनेत ने तो कंगना रनौत पर विवादास्पद टिप्पणी कर दी। हिमाचल अपेक्षाकृत छोटा राज्य है। वहां से केवल चार सांसद ही लोकसभा में चुने जाते हैं, तो मंडी में कौन बनेगा सांसद और क्या वाकई इसका देश की राजनीति पर कोई बड़ा असर पड़ेगाए ये सवाल भी अहम है. इस लोक सभा को हाई प्रोफाइल चुनाव माना जा रहा है, क्योंकि इसमें कंगना रनौत जैसी बड़ी बॉलीवुड एक्ट्रेस और राजघराने के वारिस के बीच मुकाबला होगा.

हिमाचल प्रदेश में दिसंबर 2022 में विधानसभा चुनाव हुए थे. भले ही बीजेपी ने अपनी पूरी ताकत दांव पर लगा दी, लेकिन कांग्रेस ने यहां जीत हासिल की. भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष जे. पी का यह नड्डा का घरेलू क्षेत्र है.
आंतरिक कलह के कारण कांग्रेस ने राज्यसभा सीटें खो दीं

फरवरी में हुए राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस को झटका लगा था. बीजेपी ने कांग्रेस पार्टी के कई नेताओं को अपनी पार्टी में ले लिया. इसके चलते अभिषेक मनु सिंघवी जैसे दिग्गज कांग्रेस नेता को राज्यसभा चुनाव में हार का सामना करना पड़ा। कांग्रेस के छह विधायकों ने बीजेपी उम्मीदवार हर्ष महाजन को अपना वोट दिया. हर्ष महाजन भी पहले कांग्रेस में थे. अभिषेक मनु सिंघवी की हार में दिवंगत वीरभद्र सिंह की पत्नी प्रतिभा सिंह और बेटे विक्रमादित्य ने अहम भूमिका निभाई. क्योंकि, हर्ष महाजन को वीरभद्र सिंह का वफादार माना जाता है। उसके बाद प्रतिभा सिंह और विक्रमादित्य सिंह ने भी बगावत के सुर बोले थे।

मंडी लोकसभा चुनाव देश भर का ध्यान आकर्षित करने वाली हाई प्रोफाइल सीट बन गयी है। कंगना रनौत और विक्रमादित्य सिंह के बीच कांटे की टक्कर होने वाली है। मंडी लोकसभा चुनाव विपरीत पृष्ठभूमि से आने वाली दो प्रमुख हस्तियों के बीच करीबी मुकाबला बनता जा रहा है।

इस चुनाव के नतीजे न केवल लोकसभा में मंडी का प्रतिनिधित्व तय करेंगे बल्कि हिमाचल प्रदेश और उससे आगे के राजनीतिक परिदृश्य पर भी महत्वपूर्ण प्रभाव डालेंगे।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *