Sun. May 19th, 2024

Killer Heat wave मौसम विभाग ने किया गर्मी पर चौकाने वाला खुलासा | इस बार आपको रुलाएगी गर्मी

Heat wave 2

भारत के मौसम विभाग ने Killer Heat wave की गर्मी को लेकर चौंकाने वाला खुलासा किया है। दरअसल भारत के मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने शुक्रवार को आगामी गर्मी के मौसम को लेकर चेतावनी जारी की है। विभाग ने कहा है कि इस साल गर्मी के मौसम की शुरुआत से ही तापमान अधिक रह सकता है।

रिपोर्ट में चौकाने वाले खुलासे 

मौसम विभाग ने अपनी रिपोर्ट में इस बार गर्मी में अल नीनो प्रभाव (EL Nino Effect) पड़ने की आशंका जताई है । रिपोर्ट में दावा किया गया है कि  2024 में देश के अधिकांश हिस्सों में मार्च से मई के बीच अधिकतम और न्यूनतम तापमान सामान्य से अधिक रहेंगे। 

दक्षिण के राज्य रहेंगे ज्यादा गर्म 

Indian Meteorological Department (IMD) के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्रा ने बताया कि मध्य और दक्षिणी भारत के राज्य आंध प्रदेश, तेलंगाना,और कर्नाटक के उत्तरी भाग के कई हिस्सों में सामान्य से अधिक तापमान रहेगी। इसके साथ ही उन्होंने दावा किया कि ओडिशा और महाराष्ट के भी कई हिस्सों में गर्मी लोगों को इस बार परेशान करेगी । 

क्या है EL Nino Effect, जिससे डरता है भारत ?

अल-नीनो (EL Nino) जलवायु से जुड़ी घटना होती है जो पूर्वी प्रशांत महासागर में सतही जल के सामान्य से अधिक गर्म होने पर घटती है। भूमध्य रेखा के पास प्रशांत क्षेत्र में पानी के तापमान में बढ़ोतरी होने पर अल नीनो की घटना घटती है,जो आमतौर पर 8 से 9 महिनों तक रह सकती है, लेकिन विशेष परिस्थिति में ये एक साल तक भी रह सकती है। 

जून के बाद कम हो सकता है EL Nino का प्रभाव

EL Nino की वजह से जहां भारत में Killer Heat wave से गर्मी के बढ़ने के आसार हैं, तो खुशी की बात ये है कि इसका असर ज्यादा दिनों तक रहने की उम्मीद नहीं है जो देश के लिए शुभ संकेत की तरह है। दरसल Indian Meteorological Department (IMD) के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्रा ने बताया कि EL Nino का प्रभाव जून के बाद कम होने लगेगा,जिससे तापमान में हुई बढ़ोतरी समान्य हो सकते हैं ।

heat wave 3

गर्मी से बचने के लिए करें ये उपाय 

अगर आप लगातार बढ़ रही गर्मी से खुद को अपने परिवार को,समाज और देश को बचाना चाहते हैं तो ज्यादा से ज्यादा पेड़-पौधे अपने घर के आसपास लगाएं और ऐसे चीजों का इस्तेमान कम से कम करें जो दुनिया में ग्लोवल विर्मिंग बढ़ाने में प्रमुख भागीदार होता है । पेट्रोल और डीजल से चलने वाली गाड़ियां का इस्तेमाल कम से कम करें। निजी वाहनों की जगह सार्वजनिक वाहनों का इस्तेमाल करें ताकि कम से कम प्रदूषण हो। 

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *