Sun. May 19th, 2024

India-Maldives Relations: तनावपूर्ण संबंधों के बीच मालदीव के विदेश मंत्री मूसा ज़मीर का भारत दौरा

India Maldives flag

India-Maldives Relations: भारत और मालदीव के बीच तनावपूर्ण संबंधों के मालदीव के विदेश मंत्री मूसा ज़मीर (Moosa Zameer) 9 मई को भारत की आधिकारिक यात्रा पर आ रहे हैं। चीन समर्थक माने जाने वाले राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज्जू के छह महीने पहले पदभार संभालने के बाद से यह यात्रा दोनों देशों के बीच पहली उच्च स्तरीय भागीदारी है।

ज़मीर की यात्रा की घोषणा मालदीव में सक्रिय तीन सैन्य ठिकानों से भारतीय सैन्य कर्मियों की वापसी पर राष्ट्रपति मुइज़ू के आग्रह के कारण बढ़ते तनाव के बीच हुई है। इस मांग ने दोनों देशों के बीच ऐतिहासिक रूप से घनिष्ठ संबंधों पर काफी प्रभाव डाला है।

चूंकि भारत पहले ही अपने अधिकांश सैन्य कर्मियों को वापस ले चुका है, राष्ट्रपति मुइज्जू ने पूर्ण वापसी के लिए 10 मई की समय सीमा निर्धारित की है। हालाँकि, इस आसन्न समय सीमा ने बढ़ते तनाव का समाधान खोजने के लिए राजनयिक प्रयासों को प्रेरित किया है।

भारत के विदेश मंत्रालय ने ज़मीर की यात्रा के बारे में आशावाद व्यक्त किया है, जिसमें कहा गया है कि इससे दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय सहयोग को बढ़ावा मिलने की उम्मीद है। ज़मीर का भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर के साथ आपसी हित के विभिन्न द्विपक्षीय और क्षेत्रीय मुद्दों पर चर्चा करने का कार्यक्रम है।

हिंद महासागर क्षेत्र में एक प्रमुख समुद्री पड़ोसी के रूप में मालदीव भारत के लिए रणनीतिक महत्व रखता है। इसलिए, ज़मीर की यात्रा को दोनों देशों के बीच संबंधों को सुधारने और सहयोग को बढ़ावा देने के एक महत्वपूर्ण अवसर के रूप में देखा जा रहा है।

जैसे-जैसे दोनों देश इस कूटनीतिक चुनौती से पार पा रहे हैं, उम्मीद है कि ज़मीर की यात्रा के दौरान रचनात्मक बातचीत मौजूदा तनाव के समाधान का मार्ग प्रशस्त करेगी और India और मालदीव के बीच लंबे समय से चले आ रहे संबंधों को मजबूत करेगी।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *