Mon. May 20th, 2024

karnataka hindu temple के दान पर दस फीसदी टैक्स, फैसले के बाद विभिन्न संगठन आक्रामक

karnataka hindu templekarnataka hindu temple

मंदिरों के दान पर दस फीसदी टैक्स karnataka government के फैसले के बाद विभिन्न संगठन आक्रामक हैं. कर्नाटक हिंदू मंदिर टैक्स | जिन मंदिरों की आय एक करोड़ से अधिक है उनसे दस प्रतिशत टैक्स वसूला जाएगा। इस टैक्स का इस्तेमाल केवल धार्मिक उद्देश्यों के लिए किया जाएगा. कर्नाटक सरकार ने दावा किया है कि पुजारियों की आर्थिक स्थिति में सुधार किया जाएगा.

कर्नाटक सरकार ने बुधवार को विधानसभा में एक विधेयक पारित किया. उस बिल के बाद से तूफान खड़ा हो गया है. विधेयक का शीर्षक हिंदू धार्मिक संस्थान और धर्मार्थ बंदोबस्ती (अनुसंधान) है। इस बिल में मंदिरों की आय से दस प्रतिशत टैक्स वसूलने का प्रावधान किया गया है. सरकार के इस फैसले के बाद विपक्षी दल बीजेपी और हिंदूवादी संगठन आक्रामक हो गए हैं.

बीजेपी का आरोप है कि कर्नाटक की कांग्रेस सरकार हिंदू विरोधी नीति अपना रही है. बीजेपी ने दावा किया है कि इस पैसे का दुरुपयोग किया जाएगा. उधर, सिद्धारमैया सरकार ने बीजेपी के इस आरोप को खारिज कर दिया है. सरकार की ओर से स्पष्टीकरण में कहा गया है कि जिस मंदिर की आय एक करोड़ से अधिक होगी, उससे दस फीसदी टैक्स वसूला जाएगा. इस टैक्स का इस्तेमाल केवल धार्मिक उद्देश्यों के लिए किया जाएगा. जो मंदिर खराब स्थिति में हैं, उन्हें सुधारा जाएगा।

बीजेपी का कांग्रेस पर हमला


बीजेपी ने कर्नाटक सरकार पर हिंदू विरोधी नीति अपनाने का आरोप लगाया है. बीजेपी ने कहा है कि सरकार का यह फैसला अनुचित है. सरकार द्वारा लूटा जा रहा है। इससे भ्रष्टाचार बढ़ेगा. धर्मनिरपेक्षता के पीछे हिंदू विरोधी नीतियां अपनाई जा रही हैं। सरकार की नजर मंदिर के पैसे पर है. सरकार की योजना मंदिर के पैसे से अपना खजाना भरने की है।

karnataka hindu temple
Badami Caves temple, Karnataka governmet

Gold and Silver price down in Feb 2024 सोने-चांदी के ग्राहकों के लिए बड़ी राहत, कीमतों में आई इतनी गिरावट

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष विजयेंद्र ने कहा है कि सिर्फ हिंदू मंदिरों को ही क्यों निशाना बनाया जा रहा है. सरकार दूसरे धर्मों से होने वाली आय पर फैसला क्यों नहीं लेती. करोड़ों भक्तों के मन में यही सवाल है. कांग्रेस सरकार मंदिर में हिस्सेदारी हड़पना चाहती है. इस बीच कर्नाटक सरकार के मंत्री रामलिंगा रेड्डी ने सरकार के फैसले का समर्थन किया है. इस फैसले से मंदिरों में गरीब पुजारियों की स्थिति में सुधार होगा। भाजपा काल में भी 5 लाख से 25 लाख तक की आय वाले मंदिरों से 5% टैक्स वसूला जाता रहा है। 25 लाख से अधिक जमा पर 10% शुल्क लिया जाता है।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *