Sun. May 19th, 2024

USA ISRAEL EMBASSY ABLAZE: अमेरिका में इजरायली दूतावास के सामने एक शख्स ने खुद को आग में झौंका,  कौन है खुद को आग लगाने वाला और क्यों लगाई आग ये जानकर होश उड़ जाएंगे

usa israel embassy attackusa israel embassy attack

अमेरिकी समय के मुताबिक रविवार को दिन में करीब 1 बजे वाशिंगटन में ISRAEL EMBASSY के सामने खुद एक शख्स ने खुद को आग में झौंक दिया। वाशिंगटन के पुलिस विभाग ने घटना की पुष्टि करते हुए कहा है कि इंटरनेशनल ड्राइव के एनब्ल्यू 3500 ब्लॉक पर एक व्यक्ति ने खुद को एक दूतावास के सामने आग लगा ली।

घटना की जानकारी मिलते ही Metropolitan Police Department (एमपीडी) ने US Secret Service (यूएसएसएस) के साथ मिलकर प्रतिक्रिया दी। एक वयस्क पुरुष को डीसी फायर और ईएमएस ने एक स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया है, जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। एमपीडी घटना की जांच के लिए यूएसएसएस और एटीएफ के साथ काम कर रहा है। एमपीडी के एक्सप्लोसिक ऑर्डनेंस डिस्पोजल (ईओडी) से एक संदिग्ध वाहन की भी जांच की है, जो उस व्यक्ति से जुड़ा हो सकता है, जिसने खुद को आग लगाई। हालांकि, वाहन में कुछ भी संदिग्ध नहीं मिला।

वाशिंगटन पुलिस डिपार्टमेंट

कौन था वो शख्स जिसने खुद का आग में झौंका


अमेरिकी मीडिया की रिपोर्टों के मुताबिक वाशिंगठन में इजरायली दूतावास के सामने खुद को आग में झौंकने वाला शख्स अमेरिकी वायु सेना का सक्रिय सिपाही (Active military Personnel of US Airforce) है। आग लगने की वजह से अमेरकी सैनिक का शरीर 50 फीसदी से ज्यादा जल चुका है। फिलहाल, उसका इलाज चल रहा है और हालत गंभीर बताई जा रही है। अमेरिकी सेना को दुनिया के सबसे अनुशासित और पेशेवर सशस्त्र बलों में से एक माना जाता है। ऐसे में यूएस एयरफोर्स के एक सैनिक का इस तरह खुद को आग लगाना बेहद चौंकाने वाला मामला है। फिलहाल, अमेरिकी प्रशासन, पेंटागन और अमेरिकी वायुसेना की तरफ से इस संबंध में कोई टिप्पणी नहीं की गई है कि आखिर सैनिक ने अपनी जान दांव पर लगाने वाला यह कदम क्यों उठाया है।

picsart 24 02 26 14 07 26 8658343532396507943679
अमेरिकी राज्य टेक्सस का रहने वाला है सैनिक।

सिक्रेट सर्विस एजेंट ने तानी बंदूक


जब अमेरिकी सैनिक इजरायली दूतावास के बाहर प्रदर्शन कर रहा था, तो वहां सुरक्षा में तैनात सीक्रेट सर्विस के एक एजेंट ने सैनिक के माथे पर बंदूक भी तान दी थीं। इससे पहले सीक्रेट सर्विस एजेंट उससे पूछ रहा था कि सर, आपकी कोई मदद कर सकते हैं क्या, लेकिन सैनिक जोर-जोर से फलस्तीन के समर्थन में नारे लगाए जा रहा था। इस बीच जैसे ही सीक्रेट सर्विस एजेंट ने बंदूक तानी, तो सैनिक ने खुद को आग में झौंक दिया।

ट्वीच पर हुई लाइव स्ट्रीमिंग,  वीडियो हटाया


अमेरिकी सैनिक ने अपने आत्मदाह करने की कोशिश को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्वीच पर लाइव स्ट्रीम किया था। हालांकि, कुछ ही देर बाद इस वीडियो को ट्वीच सहित सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से हटा दिया गया। जिस ट्वीच अकाउंट से घटना के वीडियो को लाइव स्ट्रीम किया गया, वह एक टेक्सस के रहने वाले अमेरिकी वायु सेना के सक्रिय सैनिक से मेल खाता है, हालांकि सुरक्षा कारणों से नाम को सार्वजनिक नहीं किया गया है

X user posted this video

क्यों लगाई खुद को आग


प्रत्यक्षदर्शियों के हवाले से अमेरिकी मीडिया ने दावा किया है कि खुद को आग लगाते वक्त अमेरिकी सैनिक फ्री-फ्री फैलेस्टाइन (फलस्तीन) के नारे लगा रहा था। इसके अलावा चीख-चीखकर कह रहा था कि वह गाजा में अमेरिकी सरकार के संरक्षण में हो रहे नरसंहार का हिस्सा नहीं बनना चाहता है। फलस्तीन को आजाद करने की जरूरत है। इतना कहते हुए उसने खुद को आग में झोंक दिया। 

चौंकाने वाला है विरोध

एक अमेरिकी सैनिक का इस तरह से आतंकी संगठन हमास के खिलाफ गाजा में इजरायल की कार्रवाई का विरोध करना चौंकाने वाला है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन भी इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू की हमास को जड़ से मिटाने की कसम का समर्थन कर रहे हैं। 

PM Narendra Modia ने समुद्र में गोता लगा द्वारका के दर्शन किए, वीडियो वायरल

हमास ने किया था  बर्बर हमला

हमास ने पिछले वर्ष 7 अक्टूबर को इजरायल पर बर्बरता की हदें पार करने वाला बेरहम हमला किया था, हमले में 30 से ज्यादा अमेरिकियों सहित 1200 से इजरायली मारे गए थे। इसके अलावा आतंकी संगठन हमास ने इजरायल की 250 से ज्यादा महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों को अगवा कर लिया है, इनमें से करीब 150 को मुक्त करा जा चुका है। हमास के आतंकियों यहूदी महिलाओं और छोटी-छोटी बच्चियों के साथ दुष्कर्म किया, उनकी नग्न परेड कराई और क्रूरतापूर्ण तरीके हत्याएं की थीं। 

हमास के 30,000 आतंकी ढेर

इजरायली रक्षा बल (आईडीएफ) की गाजा में जवाबी कार्रवाई में अब तक हमास के 30,000 आतंकी मारे जा चुके हैं। हमास का कहना है कि मरने वालों में ज्यादातर आम नागरिक हैं, जबकि आईडीएफ का कहना है कि हमास के लिए हथियार उठाने वाले, उन हथियारों को छिपाने वाले और हमास के आतंकियों से किसी भी तरह जुड़े सभी लोगों को इजरायल आतंकी मानता है। जो लोग हमास खुद को आतंकी नहीं मानते वे किसी भी तरह से हमास का समर्थन बंद करें।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *