इस सीट से चुनावी मैदान में नहीं होगा गांधी परिवार, 35 साल का सफर खत्म

 बीजेपी ने पीलीभीत सीट से मौजूदा सांसद वरुण गांधी का टिकट काट दिया।

1989 से ही इस सीट पर मेनका गांधी और वरुण गांधी चुनाव लड़ते रहे हैं ।

मेनका गांधी ने इस सीट पर पहली बार 1989 में चुनाव लड़ा था।

इसके बाद इस सीट पर गांधी परिवार ने हर बार चुनाव लड़ा है।

मेनका गांधी ने 2004 तक इस सीट पर चुनाव लड़ा और जीत दर्ज की।

इसके बाद 2009 में मेनका गांधी ने यह सीट अपने बेटे वरुण गांधी के लिए खाली कर दी थी।

इसके बाद 2009 में वरुण गांधी ने जीत दर्ज की।

इसके बाद 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने फिर से पीलीभीत से मेनका गांधी को टिकट दिया था।

इस बाद 2019 के लोकसभा चुनाव में फिर पार्टी ने उम्मीदवार बदला और पीलीभीत से वरुण गांधी को उम्मीदवार बनाया था।

बीजेपी ने इस सीट से योगी सरकार में मंत्री जितिन प्रसाद को अपना उम्मीदवार बनाया है।

यानी 1989 के बाद पहली बार होगा कि इस सीट पर गांधी परिवार से कोई चुनाव नहीं लड़ेगा।