IIT वाला यूपी का नेता, जो बना राजनीति का ‘मौसम वैज्ञानिक’

12 फरवरी, 1939 को अजीत सिंह ने पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के इकलौते पुत्र के रूप में जन्म लिया था।

रामविलास पासवान की तरह अजीत सिंह को भी कभी भारतीय राजनीति का मौसम वैज्ञानिक समझा गया था।

 अजीत सिंह का राजनीति के मौसम वैज्ञानिक बनने का सफर शुरू हुआ था साल 1996 में, जब नरसिंह राव के हाथ से सत्ता जाते ही उन्होंने कांग्रेस पार्टी से किनारा कर लिया था।

साल 2001 जिसमें अजीत सिंह एनडीए में शामिल हो गए। और अटल सरकार में उन्हें कृषि मंत्री बनाया गया।

अजीत सिंह ने अपनी सियासी दृष्टि से भांप लिया कि आने वाला वक्त अटल सरकार के लिए ठीक नहीं है। इसी अनुमान के साथ साल 2003 में उन्होंने एनडीए और सरकार दोनों को छोड़ दिया।

इसके बाद फिर 2009 में उनकी पार्टी राष्ट्रीय लोक दल ने एनडीए के साथ गठबंधन कर 7 सीटों पर चुनाव लड़ा और 5 सीटें हासिल की।

लेकिन फिर एक बार अजीत का एनडीए से मोहभंग हुआ। फिर एक बार उन्होंने पाला बदला।

अब उन्होंने पारी शुरू की यूपीए के साथ। और फिर इसके बाद मनमोहन सरकार में उन्हें नागरिक उड्डयन मंत्री बनाया गया। और 2014 तक वह यूपीए का ही हिस्सा रहे।

6 मई, 2021 को कोविड-19 संक्रमण के चलते अजीत सिंह का निधन हो गया ।