Sun. May 19th, 2024

IPL 2024 : क्या है श्रेयस और ईशान के बाहर होने की वजह, आइए जानें

Shreyas_IyerShreyas_Iyer

आदित्य पाण्डेय

BCCI (भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड) द्वारा घोषित केंद्रीय अनुबंध और दो युवा अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों श्रेयस अय्यर और इशान किशन को IPL 2024 हटाए जाने के बाद बीसीसीआई ने उन खिलाड़ियों को कड़ा संदेश भेजा है जो घरेलू क्रिकेट छोड़ रहे हैं।

बीसीसीआई सचिव जय शाह के आग्रह के बावजूद, दोनों खिलाड़ी मौजूदा रणजी ट्रॉफी मैचों के दौरान अपनी-अपनी राज्य टीमों से अनुपस्थित थे, जिसके बाद बोर्ड को कार्रवाई करनी पड़ी। अय्यर ने चोट कारण बताया और मुंबई के लिए खेलने से इनकार कर दिया, जबकि किशन ने दक्षिण अफ्रीका के अपने हालिया दौरे के बाद मानसिक थकान का हवाला दिया, जहां उन्होंने राष्ट्रीय टीम का प्रतिनिधित्व किया था।

सूत्रों का कहना है कि जब दोनों खिलाड़ियों ने रणजी ट्रॉफी मैचों के लिए खुद को अनुपलब्ध बताया तो चयनकर्ताओं के साथ परामर्श के बाद बीसीसीआई ने यह निर्णय लिया। अय्यर इंग्लैंड के खिलाफ पहले दो टेस्ट मैचों के लिए भारतीय टीम का हिस्सा थे, लेकिन बाद में चोट की चिंताओं का हवाला देते हुए खराब प्रदर्शन के कारण उन्हें बाहर कर दिया गया। इस बीच ईशान किशन, जिनके रणजी ट्रॉफी में झारखंड टीम के लिए खेलने की उम्मीद थी, वडोदरा में हार्दिक पंड्या के साथ अभ्यास कर रहे थे और उन्होंने राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) को रिपोर्ट नहीं किया।

बोर्ड का यह कदम सभी अनुबंधित खिलाड़ियों के लिए एक संकेत है कि यदि वे भारत का प्रतिनिधित्व करना चाहते हैं तो घरेलू क्रिकेट में भाग लेना अनिवार्य है। इंग्लैंड के खिलाफ श्रृंखला से पहले, मुख्य कोच राहुल द्रविड़ से किशन को शामिल करने के बारे में पूछा गया था, जिस पर उन्होंने जवाब दिया कि खिलाड़ियों के घरेलू क्रिकेट में भाग लेने के बाद चयन पर विचार किया जाएगा।

Ishan_Kishan
Ishan_Kishan

दोनों खिलाड़ी आगामी इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2024) सीजन में अपनी-अपनी फ्रेंचाइजी के लिए दावेदारी की तैयारी कर रहे हैं, जिसमें राष्ट्रीय टीम का चयन घरेलू क्रिकेट में उनकी भागीदारी पर सहमति होगी।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) हाल ही में घरेलू क्रिकेट में अनुबंधित खिलाड़ियों की भागीदारी पर अपने सख्त रुख को लेकर सुर्खियों में है। प्रतिभाशाली युवा श्रेयस अय्यर और इशान किशन के क्रमशः मुंबई और झारखंड के लिए रणजी ट्रॉफी मैचों से बाहर होने से, बीसीसीआई ने राष्ट्रीय टीम चयन में घरेलू क्रिकेट के महत्व के बारे में एक स्पष्ट संदेश भेजा है।

जहां अय्यर ने अपनी अनुपस्थिति के लिए चोट की चिंताओं का हवाला दिया, वहीं किशन ने अपने हालिया दक्षिण अफ्रीका दौरे के बाद मानसिक थकान का हवाला दिया। उनकी भागीदारी को प्रोत्साहित करने के लिए बीसीसीआई सचिव जय शाह के प्रयासों के बावजूद, दोनों खिलाड़ी अपनी राज्य टीमों से अनुपस्थित रहे, जिसके बाद बोर्ड को कार्रवाई करनी पड़ी।

IPL 2024 कप्तानी संभालने के बाद हार्दिक पंड्या की

यह घटनाक्रम अंतरराष्ट्रीय प्रतिबद्धताओं और घरेलू क्रिकेट के बीच संतुलन पर सवाल उठाता है, क्योंकि बीसीसीआई राष्ट्रीय मंच के लिए खिलाड़ियों को तैयार करने में घरेलू क्रिकेट के महत्व पर जोर देता है। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के नजदीक आने के साथ, यह देखना बाकी है कि ये युवा क्रिकेटर बोर्ड के निर्देश पर कैसे प्रतिक्रिया देंगे और भारतीय क्रिकेट में उनके भविष्य पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *