Sat. May 18th, 2024

Lok Sabha Election 2024: चुनाव के दौरान भूटान दौरे पर जा रहे हैं PM Modi? क्या है कारण

By samacharpatti.com Mar 18, 2024
modi

Lok Sabha Election 2024: आम चुनाव के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भूटान के दौरे पर जा रहे हैं. बताया जा रहा है कि चुनाव आचार संहिता लागू हो जाने के कारण दोनों देशों में किसी सुलह समझौते की घोषणा नहीं की जाएगी. मोदी इसलिए जा रहे हैं क्योंकि ये दौरा बेहद अहम है क्योंकि चीन के साथ उनके रिश्ते ख़राब हो गए हैं.


Lok Sabha Election 2024 की घोषणा हो चुकी है. उधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भूटान के दौरे पर हैं. लोकसभा चुनाव की आचार संहिता लागू होने के कारण इन यात्राओं के दौरान दोनों देशों के बीच किसी समझौते को लेकर कोई घोषणा नहीं होगी। फिर भी यह दौरा अहम माना जा रहा है. भूटान के प्रधानमंत्री शेरिंग टोबगे ने हाल ही में भारत का दौरा किया। इसी पृष्ठभूमि में प्रधानमंत्री का दौरा हो रहा है. एक तरफ चुनाव की घोषणा हो चुकी है और प्रधानमंत्री विदेश दौरे पर जा रहे हैं, जिससे आश्चर्य हो रहा है.

साल 2009 में मनमोहन सिंह ने भी चुनाव दौरान किया था ब्रिटेन दौरा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पहले साल 2009 में भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने भी चुनाव की तारीखों की घोषणा के बाद ब्रिटेन का दौरा किया था. उस वक्त मनमोहन सिंह जी-20 समिट के लिए गए हुए थे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 21-22 मार्च को भूटान की संक्षिप्त यात्रा पर जा रहे हैं. ये दौरा दोनों देशों के लिए बेहद अहम है. यह यात्रा चीन के साथ तनावपूर्ण संबंधों के समय हो रही है। इसलिए भारतीय विदेश नीति के लिहाज से यह एक अहम दौरा है. इससे शेरिंग सरकार के दौरान चीन के साथ सीमा विवाद को सुलझाने में मदद मिली। उस समय चीन और भूटान के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये गये थे।


भूटान का समर्थन महत्वपूर्ण है


‘चिकेन नेक’ में कई स्थानों पर भारत, भूटान और चीन की सीमाएँ परिलक्षित होती हैं। दो साल पहले डोकलाम में चीनी और भारतीय सेना के बीच झड़प हुई थी. ये इलाका था ट्राई जंक्शन. पूर्वोत्तर क्षेत्र में ऐसी सीमाएँ संवेदनशील हैं। भूटान और चीन के बीच एमओयू में सीमाओं की अदला-बदली का समझौता भी शामिल है। भूटान के प्रधानमंत्री ने जनवरी में पदभार संभालने के बाद पहली बार भारत का दौरा किया। ऐसे समय में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भूटान का दौरा कर दोनों देशों के बीच रिश्ते को मजबूत करना चाहते हैं.

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *